भारत का प्राचीन इतिहास (Ancient history of india)

हेलो दोस्तों, हमारे इस ब्लॉग में आपका स्वागत है ! हमारे इस ब्लॉग में हम आपको सम्पूर्ण भारत का प्राचीन इतिहास (हिंदी में) । Ancient History in Hindi, के बारे में बताएंगे और इसके साथ साथ वेद क्या है,। Ved Kya Hai और ये कितने प्रकार के होते है और विदेशी यात्रियों का विवरण, प्रागैतिहासिक काल । Prehistoric Period, सिंधु सभ्यता । Indus Civilization, वैदिक सभ्यता । Vedic Civilization,सिन्धु सभ्यता के प्रमुख स्थल व खोजकर्ता इन सब के बारे में बतायेगे, तो चलिए शुरू करते है !

सम्पूर्ण भारत का प्राचीन इतिहास । Ancient History in Hindi

 

भारत का प्राचीन इतिहास (Ancient history of india in Hindi)
सम्पूर्ण भारत का प्राचीन इतिहास (Ancient history of India in Hindi)

वेद क्या है?। Ved Kya Hai

यह प्राचीन भारत का पवित्र साहित्य हैं जो हिन्दुओं का प्राचीनतम और आधारभूत धर्मग्रन्थ भी हैं। वेद, विश्व के सबसे प्राचीन साहित्य भी हैं। भारतीय संस्कृति में वेद सनातन वर्णाश्रम धर्म के, मूल और सबसे प्राचीन ग्रन्थ हैं।

भारत का सर्वप्राचीन धर्मग्रंथ वेद है।

जिसके संकलनकर्ता महर्षि वेदव्यास है।

इन चारो वेदो को सहिंता कहा जाता है।

 

वेद । Ved
वेद । Ved

वेद के प्रकार । Ved Ke Prkar

1. ऋग्वेद

2. सामवेद

3. यजुर्वेद

4. अथर्ववेद 

1. ऋग्वेRig veda

ऋचाओं के क्रम बद्ध ज्ञान के संग्रह को ऋग्वेद कहलाता है! इसमें 10 मंडल,1028 सूक्त और 10,462 ऋचाय है  

इस वेद को पड़ने वाले ऋषि को होत्र कहते है!

विश्वामित्र जी द्वारा रचित ऋग्वेद के तीसरे मंडल में सूर्य देवता सावित्री को समर्पित गायत्री मंत्र है! तथा इसके 9वे मंडल में देवता सोम का उल्लेख वर्णित है!

ऋग्वेद के 8वे मंडल की हस्तलिखित ऋचाओं को खिल कहा जाता है!

2. यजुर्वेद Yajur veda

मंत्रो और बलि के समय अनुपालन के लिए नियमो का संकलन यजुर्वेद कहलाता है ! इसके पाठकर्ता को अद्र्व्यू कहते है!

यजुर्वेद में यज्ञो के नियमो और विधि विधानों का संकलन मिलता है!

इसमें बलिदान विधि का वर्णन है!

यजुर्वेद एक ऐसा वेद है जो गद्य एवं पद्य दोनों में है!

3. सामवेद Sama veda

इसे भारतीय संगीत का जनक कहा जाता है!

4. अथर्ववेद Atharva veda

अथर्ववेद कन्याओ के जन्म की निंदा करता है! तथा इसमें सामान्य मनुष्यो के विकारो तथा अंधविश्वासो का विवरण मिलता है!

अथर्ववेद में जादू टोने का भी विवरण है!

इस वेद में सभा एवं समिति को प्रजापति की दो पुत्रियां कहा गया है!

Note – सबसे प्राचीन अर्थात पुराना वेद ऋग्वेद एवं सबसे बाद का वेद अधर्ववेद है !

Note – पुराणों मै मतस्य पुराण सबसे प्राचीन एवं प्रामाणिक है !

स्त्री की सर्वाधिक गिरी हुई स्तिथि या दसा मैत्रेयनि सहिंता से प्राप्त होती हैं जिसमे जुआ और शराब की तरह स्त्री को पुरुष का तीसरा मुख्य दोष बताया है!

सतपथ ब्राह्मण में स्त्री को पुरुष की अर्धागिनी भी कहा गया था !

जाबालोपनिषद मै चारो आश्रमों का उल्लेख मिलता है!

स्मृतिग्रंथो मै सबसे प्राचीन एवं प्रामाणिक मनुस्मृति मानी जाती है यह शुंग काल का ,मानक ग्रंथ है!

हीनयान का प्रमुख ग्रंथ कथावस्तु है जिसमे महात्मा बुद्ध के जीवन चरित्र का वर्णन है!

अर्थशास्त्र के लेखक चाणक्य (कौटिल्य या विष्णुगुप्त) है!

कल्हण द्वारा रचित पुस्तक राजतरंगिणी (आठ तरंग) है, जिसका संबंध कश्मीर के इतिहास से है!

अरबों की सिंध विजय का वृतांत चचनामा (लेख़क -अली अहमद) मै सुरक्छित है!

अष्टाध्ययी के लेखक पाणिनि है!

विदेशी यात्रियों का विवरण

यूनानी लेख़क Greek writer

हेरोडोटस Herodotus

 इसे इतिहास का पिता कहा जाता है रचना – हिस्टोरिका (भारत व फारस सम्बन्ध)

टेसियस Tessius

 यह ईरान का राजवैध था!

मेगस्थनीज Megasthenes

यह सेल्यूकस निकेटर का राजदूत था जो चन्द्गुप्त मौर्य के दरबार में आया था जो चन्द्रगुप्त मौर्य के दरबार में 14 वर्ष रहा !

जिसकी पुस्तक इण्डिका है !

डाइमेकस Dimecus

यह सीरियन नरेश का राजदूत था जो बिन्दुसार के दरबार में आया था !

टॉलमी Ptolemy

यह मौर्य शासक अशोक के दरबार मै आया था ! रचना – भारत का भूगोल !

प्लिनि Pliny

रचना – Natural Historica (भारतीय पशू, पेड़-पौधे से संबंधी) !

चीनी लेखक 

फाहियान Fa hien

यह चीनी यात्री गुप्त नरेश चन्द्रगुप्त द्वितीय के समय आया था यह 14 वर्षो तक भारत में रहा !

ह्वेनसांग Hiuen Tsang

यह कन्नौज शासक हर्षवर्धन के समय भारत आया था  !रचना – सी -यू की !

इत्सिंग Etsing

यह 7 वी शताब्दी के अंत में भारत आया था !

इसने अपने विवरण में नालंदा विश्वविद्यालय,विक्रमशिला विश्वविद्यालय तथा अपने समय में भारत का वर्णन किया था !

अरबी लेखक

अलबरूनी Alberuni

यह महमूद गजनवी के साथ भारत आया था रचना – किताब-उल-हिन्द (भारत की खोज)

फारसी लेखक

फिरदौसी

रचना –  शाहनामा

अबुल फजल

रचना – अकबरनामा


प्रागैतिहासिक काल। Prehistoric Period In Hindi


आग का अविष्कार पूरा-पाषाणकाल में एवं पहिये का नव-पाषाणकाल में हुआ !

मनुष्य ने सबसे पहले कुत्ते को पालतू बनाया !

मानव द्वारा बनाया जाने वाला प्रथम औजार कुल्हाड़ी था !

कृषि का अविष्कार नव-पाषाणकाल में हुआ !

मनुष्य ने सर्वप्रथम तांबा धातु का प्रयोग किया !

भारत का सबसे प्राचीन नगर मोहनजोदड़ो था सिंधी भाषा में जिसका अर्थ है – मृतकों का टीला !

रॉबर्ट ब्रुस फुट पहले व्यक्ति थे जिन्होंने 1863 ई. में भारत में पुरापाषाणकालीन औजारों की खोज की !

भारत में मनुष्य संबधी सबसे पहला प्रमाण नर्मदा घाटी से मिलता है !


सिंधु सभ्यता। Indus Valley Civilization In Hindi


सिन्धु सभ्यता की खोज 1921 ई.रायबहादुर दयाराम शाहनी ने की  !

मोहनजोदड़ो सिन्धु घाटी का सबसे बड़ा स्थल था !

भारत में इसका सबसे बड़ा स्थल राखीगढ़ी था !

लोथल एवं सुतकोतदा सिन्धु सभ्यता का बन्दरगाह था !

जूते हुए खेत और नक्काशीदार ईटों के प्रयोग का विवरण कालीबंगन से प्राप्त हुआ था !

मोहनजोदड़ो से प्राप्त स्नानागार सैंधव सभ्यता की सबसे बड़ी इमारत थी !

अग्निकुंड लोथल एवं कालीबंगन से प्राप्त हुए थे !

मोहनजोदडो से नर्तकी की एक कांस्य मूर्ति मिली थी !

मनके बनाने के कारखाने लोथल एवं चन्हूदड़ो से मिले है !

सिन्धु सभ्यता की लिपि भावचित्रात्मक है !

सेंधव वासी मिठास के लिए शहद का प्रयोग करते थे !

सिन्धु संभ्यता में गेहूँ और जो मुख्य फसल थी 

मिट्ठी से बने हल का विवरण वनमाली है !

सुरकोतदा, कालीबंगन एवं लोथल से सैंधवकालीन घोड़े के अस्थिपंजर मिले है !

तोल की इकाई संभवतः 16 के अनुपात में थी 

पर्दा-प्रथा एवं वेश्यावृति सैन्धव सभ्यता में प्रचलित थी !


वैदिक सभ्यता। Vedic Civilization In Hindi


आर्य सर्वप्रथम पंजाब एवं अफगानिस्तान में बसे थे !
 
मैक्समूलर ने आर्यों का मूल निवास-स्थान मध्य एशिया को माना है !
 
आर्यों द्वारा निर्मित सभ्यता वैदिक सभ्यता कहलाई  !
 
यह एक ग्रामीण सभ्यता थी !
 
आर्यों की भाषा संस्कृत थी !
 
सभा एवं समिति राजा को सलाह देने वाली संस्था थी !
 
आर्यों का मुख्य व्यवसाय पशुपालन एवं कृषि था !
 
बाल-विवाह एवं पर्दा-प्रथा का प्रचलन नहीं था !
 
आर्यों का प्रिय पशु घोड़ा एवं सर्वाधिक प्रिय देवता इन्द्र थे !
 
महृषि कणाद को भारतीय परमाणुवाद का जनक कहा गया है !
 
आर्यों द्वारा खोजी गयी धातु लोहा थी जिसे श्याम अयस कहा जाता है !
 
ताँबे को लोहित अयस कहा जाता था !
 

सम्पूर्ण भारत का प्राचीन इतिहास । Ancient History in Hindi के कुछ महत्वपूर्ण तथ्य


मानव द्वारा सर्वप्रथम उपभोग अनाज – जौ , गेहूँ , चावल , मक्का [ क्रमानुसार ] !

भारत में मानव स्त्रोत सर्वप्रथम – नर्मदा घाटी !

भारतीय उपमहाद्वीप में सर्वप्रथम कृषि – मेहरगढ़ [बलूचिस्तान] !

सर्वप्रथम धातु के औजारों के रूप में ताँबे का प्रयोग – ताम्रपाषाण काल !

राख के टीले प्राप्त हुए – कर्नाटक [ मैसूर ] !

पशुपालन सर्वप्रथम प्राप्त हुए – आदमगढ़ [होशंगाबाद ] म. प्र. !

खाद्यानो का उत्पादन सर्वप्रथम – नवपाषण काल !

मानव कंकाल व कुत्ते के कंकाल – बुर्जहोम !

आग का आविष्कार – पुरापाषाण युग !

सबसे प्राचीन वेद – ऋग्वेद !

सर्वप्रथम सिक्को पर लेख लिखे  –  यवन शासको द्वारा !

सबसे प्राचीन पुराण – मत्स्य पुराण !

सर्वप्रथम सिक्को पर लेख लिखे  –  यवन शासको द्वारा !

सबसे बाद का वेद – अथर्ववेद !

रोमन सिक्के प्राप्त हुए – अरिकमेडु [ पुड्डुचेरी ] !

भारतवर्ष के लिए इण्डिया शब्द प्रयोग – यूनानियों द्वारा  !

इनका मुख्य व्यवसाय था   –  पशुपालन व कृषि !

आर्यो ने सबसे पहली धातु की खोज की – लोहा !

दसराज्ञ युद्ध का वर्णन – ऋग्वेद के ७ वे मंडल में 

गायत्री मंत्र की रचना की गयी है  – विश्वामित्र !

आर्य का अर्थ  होता है – श्रेष्ठ या कुलीन !

गायत्री मंत्र का वर्णन – ऋग्वेद के ३ वे मंडल में। 

उपनिषदों में वर्णन – मोक्छ प्राप्ति का !

ऋग्वेद में युद्ध देवता – इंद्रदेवता !

असतो मा सदगमय का वर्णन –  ऋग्वेद !

ऋग्वेद में सर्वाधिक मंत्र संख्या है – अग्निदेव !

सर्वाधिक लोकप्रिय देवता – इन्द्रदेव !

ऋग्वेद में वरुण – समुन्द्र देवता !

सत्यमेव जयते लिया गया – मुण्डकोपनिषद !

भारतीय पुरातत्वशास्त्र का पितामह सर अलेक्जेंडर कनिंघम को कहा जाता है !

सर्वप्रथम भारतवर्ष का जिक्र हाथीगुम्फा अभिलेख है!

सतीप्रथा का पहला लिखित विवरण एरण अभिलेख से प्राप्त होती है !

रेशम बुनकर की श्रेणियों की जानकारी मंदसौर अभिलेख से प्राप्त होती है !

प्राचीनतम सिक्को को आहत सिक्के कहा जाता है और इसी को साहित्य में कषार्पण कहा गया है !

अभिलेखों का अध्ययन इपिग्राफी कहलाता है !

उत्तर भारत के मंदिरो की कला की शैली नागर शैली एवं दक्षिण भारत के मंदिरो की कला द्राविड़ शैली कहलाती है !

पंचायतन शब्द मंदिर रचना शैली से संबधित है !

यह भी पढ़े – मुग़ल साम्राज्य (Mughal Empire)

FAQ SECTION

[WPSM_AC id=12486]

 

दोस्तों, आज हमने आपको भारत का प्राचीन इतिहास  (Ancient History in Hindi) और इसके साथ साथ वेद क्या है, Ved Kya Hai और ये कितने प्रकार के होते है और विदेशी यात्रियों का विवरण, प्रागैतिहासिक काल (Prehistoric Period), सिंधु सभ्यता (Indus Civilization), वैदिक सभ्यता (the vedic civilization),सिन्धु सभ्यता के प्रमुख स्थल व खोजकर्ता के बारे मे बताया, आशा करता हूँ आपको यह आर्टिकल बहुत पसंद आया होगा और आपको इससे बहुत कुछ सिखने को भी मिला होगा, तो दोस्तों मुझे अपनी राय comment करके बताया ताकि मुझे और अच्छे अच्छे आर्टिकल लिखने का सौभग्य प्राप्त हो, मुझे आपके कमेंट का इंतजार रहेगा  ! धन्यवाद् !

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here