भूगोल की परिभाषा (Bhugol Ki Paribhasha)
भूगोल की परिभाषा (Bhugol Ki Paribhasha)

हेलो, दोस्तों हमारा इस ब्लॉक में आपका स्वागत है, आज हम आपको बताएंगे की भूगोल की परिभाषा (Bhugol Ki Paribhasha) क्या होती है, और उनकी शाखाएं कौन-कौन सी होती हैं, तथा भौतिक एवं जैव विज्ञान के बारे में भी जानेंगे और इसके अलावा हम भूगोल के अर्थ का अध्ययन भी करेंगे ।

भूगोल की परिभाषा (Bhugol Ki Paribhasha)

Bhugol Ki Paribhasha
Bhugol

भूगोल की परिभाषा (Bhugol Ki Paribhasha) निम्न प्रकार से दी गई है।

1. मोकहाउस के अनुसार –

भूगोल वह विज्ञान है जो एक स्थान से दूसरे स्थान तक परिवर्तनशील स्वरूपो का वर्णन और उनकी व्याख्या मानव संसार के रूप में करता है ।

2. हैटनर के अनुसार –

हैटनर ने भूगोल की परिभाषा निम्न प्रकार से दी है भूगोल क्षेत्रीय विज्ञान (Charological Science) है जिसमें पृथ्वी कल के क्षेत्रों का अध्ययन उनकी भिन्नताओ तथा स्थानिक संबंधों (Saptial Relations) की पृष्ठभूमि में किया जाता है ।

3. सोवियत भूगोलवेत्ता जिरासीमोव के अनुसार –

भूगोल वह विज्ञान है जो पृथ्वी तल के विभिन्न क्षेत्रों में प्राकृतिक एवं मानवी तथ्यों की क्रियाओं द्वारा निर्मित समिश्र समाकल प्रदेशों (Complex Integral Regions) की व्याख्या करता है।

भूगोल की प्रमुख शाखाएं (Bhugol ki Pramukh Shakhayen)

प्रारंभिक काल में भूगोल की निम्न 4 शाखाओं का विकास लगभग एक साथ हुआ ।

1. पृथ्वी के सौर सम्बन्ध अथवा खगोलीय भूगोल

2. संसाधन भूगोल

3. यात्रा भूगोल

4. मानचित्रण भूगोल

प्रारंभिक काल में भूगोल का अध्ययन क्षेत्र बहुत व्यापक था और पृथ्वी तथा उसके भागों से संबंधित समस्त प्रकार के विषय इसके अंतर्गत आते थे पृथ्वी के आंतरिक भाग के अध्ययन को भूमि की मौसम का अध्ययन करने वाला विषय मौसम विज्ञान जलवायु का अध्ययन करने वाली भूगोल की शाखा जलवायु विज्ञान तथा महासागरों का अध्ययन भूगोल की प्रमुख शाखा समुंद्र विज्ञान में किया जाता रहा है मिट्टियों का अध्ययन मृदा विज्ञान के अंतर्गत किया गया है यह सभी विज्ञान भूगोल के भौतिक पक्ष से संबंधित हैं!

भूगोल की प्रमुख शाखाएं एवं उपशाखाएं (Bhugol ki Pramukh Shakhayen avm Upshakhayen)

यह दो प्रकार की शाखाएं हैं!

1. भौतिक भूगोल

2. मानव भूगोल

भौतिक भूगोल के अंतर्गत आने वाली शाखाएं एवं उपशाखाएं (Bhautik Bhugol ki Pramukh Shakhayen)

1. भू- गणित
2. भू- भोतिकी
3. खगोलीय भूगोल
4. भू आकृति विज्ञान
5. जलवायु विज्ञान
6. समुद्र विज्ञान
7. जल विज्ञान
8. हिमनद विज्ञान
9. मृदा भूगोल
10. मिश्र भौतिक भूगोल

मानव भूगोल के अंतर्गत आने वाली शाखाएं एवं उपशाखाएं (Manav Bhugol ki Pramukh Shakhayen)

1. रीजनल ज्योग्राफी
2. जनसंख्या भूगोल
3. एतिहासिक भूगोल राजनीतिक
4. राजनीतिकभूगोल
5. सामाजिक भूगोल
6. सैन्य भूगोल
7. सांस्कृतिक भूगोल
8. कृषि भूगोल
9. संसाधन भूगोल
10. यातायात एवं परिवहन भूगोल

भूगोल की उपयुक्त शाखाओं का उल्लेख एवं वर्गीकरण केवल अध्ययन की सुविधा के लिए किया जाता है भूगोल का अध्ययन उपयुक्त शाखाओं के क्रमबद्ध एवं प्रादेशिक उपागमो के संयुक्त विश्लेषण से पूर्ण होता है भूगोल की कुछ शाखा एवं शाखाएं ऐसी है जिन का अध्ययन दोनों शाखाओं में किया जाता है जैसे सर्वेक्षण कार्टोग्राफी गणितीय भूगोल मात्राकरण व्यवहारिक भूगोल आदि का प्रयोग भूगोल की प्रत्येक शाखा और उपशाखा में होता है !

 

भूगोल तथा भौतिक एवं जैव विज्ञान

यह निम्न प्रकार के होते हैं

1. भूगोल एवं खगोल विज्ञान (Bhugol avm Khagol Vigyan)

खगोल विज्ञान भूगोल की प्रारंभिक शाखा है सौर मण्डल सूर्य की किरणों की उत्तरायण एवं दक्षिणायन स्थित दिन रात का होना मौसमी परिवर्तन चंद्रमा की कलाओं का अध्ययन सूर्य ग्रहण चंद्र ग्रहण आदि का अध्ययन भूगोल एवं खगोल विज्ञान द्वारा होता है

2. भूगोल एवं गणित विज्ञान (Bhugol avm Ganit Vigyan)

प्रदेशों की अवस्थित एवं भौमितीय स्थित क्षेत्रफल ग्राहीय दूरियां कृषि उद्योग परिवहन व्यापार वाणिज्य सेवा केंद्रों तथा नगरों की अवस्थित क्षेत्र विश्लेषण तथा मात्रा करण एवं योजना करण में गणितीय क्रियाएं पूर्ण रूप से सम्मिलित हैं

3. भूगोल एवं भौमिकी विज्ञान (Bhugol avm Bhoumiki Vigyan)

भूगोल में विभिन्न प्रदेशों की भू – आकृतियों जैसे पर्वतों पठारो मैदानों घाटियों से था इनमें मानव क्रियाओं एवं उनके अंत संबंधों का अध्ययन किया जाता है इनका अध्ययन भूगोल का मुख्य विषय है

4. भूगोल एवं जलवायु विज्ञान (Bhugol avm Jalvayu Vigyan)

विभिन्न प्रदेशों में मानव के क्रियाकलापों के निर्धारण में जलवायु की महत्वपूर्ण भूमिका होती है मानव का भोजन वस्त्र आवास रहन-सहन विचार शक्ति आज जलवायु द्वारा प्रभावित होती है मानव की क्रियाएं जलवायु एवं मौसम द्वारा निर्धारित होती हैं

5. भूगोल एवं जंतु विज्ञान (Bhugol avm Jantu Vigyan)

पशु एवं जीव जंतु एक महत्वपूर्ण संसाधन है मानव का अधिकार से पशुओं से गहरा संबंध रहा पशुओं से मनुष्य का दूध मांस चमड़ा आज उनके उपयोगी वस्तुएं प्राप्त होती हैं पशुपालन एवं उन पर आधारित विभिन्न उद्योगों तथा इनके वितरण का अध्ययन भूगोल में किया जाता है

भूगोल का अर्थ (Bhugol ka Arth)

भूगोल अंग्रेजी भाषा के जो ग्राफी शब्द का हिंदी रूपांतरण है जो ग्राफी शब्द दो शब्दों से बना है पहला जी ( Ge ) एवं ग्राफो ( Grapho) से बना है जिसका अर्थ होता है पृथ्वी का वर्णन करना था जिसमें पृथ्वी तल का अध्ययन किया जाता है भूगोल में पृथ्वी तल का व्यापक अर्थ लिया जाता है और इसके अंतर्गत उन समस्त तथ्यों को सम्मिलित किया जाता है जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करते हैं !


Read Moreपृथ्वी की संरचना, Earth Structure in hindi

Read MoreBest Camera Under 20000 In India

Read More – Morpho Driver Download


हेलो दोस्तों, आशा है कि आप लोग भूगोल की परिभाषा (Bhugol Ki Paribhasha) क्या होती है, और उनकी शाखाएं कौन-कौन सी होती हैं, तथा भौतिक एवं जैव विज्ञान बारे में जान गए होंगे ! धन्यवाद !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here