Home जीव विज्ञान कोशिका झिल्ली किसे कहते है, (Koshika Jhilli Kise Kahate Hain)

कोशिका झिल्ली किसे कहते है, (Koshika Jhilli Kise Kahate Hain)

कोशिका झिल्ली किसे कहते है, What is Cell Membrane in hindi

हेलो दोस्तों, हमारे इस Blog में आपका स्वागत है, हमारे इस ब्लॉग में आज हम आपको कोशिका झिल्ली किसे कहते है, (Koshika Jhilli Kise Kahate Hain), कोशिका भित्ति (Cell Wall) क्या है, कोशिका द्रव्य (Cytoplasm) किसे कहते हैं, राइबोसोम क्या है, लाइसोसोम क्या है, माइटोकॉन्ड्रिया किसे कहते हैं, लवक (Plastid) किसे कहते हैं,केंद्रक (Nucleus) किसे कहते हैं, इन सबके बारे में बताएंगे, तो चलिए दोस्तों शुरू करते है –

कोशिका झिल्ली किसे कहते है, What is Cell Membrane in hindi
माइटोकॉन्ड्रिया (Mitochondria)

कोशिका झिल्ली किसे कहते है? (Koshika Jhilli Kise Kahate Hain)

प्रत्येक कोशिका के चारों ओर एक बहुत पतली, मुलायम व लचीली झिल्ली होती है जिसे कोशिका झिल्ली या प्लाज्मा झिल्ली कहते हैं ! यह झिल्ली जीवित एवं अर्द्ध पारगम्य होती है ! क्योंकि इस झिल्ली द्वारा कुछ हीं पदार्थ अंदर तथा बाहर आ-जा सकते हैं यह लिपिड और प्रोटीन की बनी होती है ! इसमें दो परत प्रोटीन तथा एक परत लिपिड की होती है !

कोशिका भित्ति क्या है? (koshika bhitti kya hai)

यह पादप कोशिकाओं के चारों ओर मोठे और कड़े आवरण को कोशिका भित्ति कहते हैं! कोशिका भित्ति मुख्यतः सेल्यूलोज की बनी होती है यह पारगम्य होती है ! यह पादप कोशिकाओं को एक निश्चित रूप प्रदान करती है यह पादप कोशिकाओं को सुरक्षा और सहारा प्रदान करती है  यह कोशिका झिल्ली की रक्षा करती है ! तथा साथ ही उसे सूखने से बचाती हैं !

कोशिका द्रव्य किसे कहते हैं? (Koshika Dravya Kise Kahate Hain)

जीव द्रव्य का वह भाग जो कोशिका भित्ति एवं केन्द्रक के बीच होता है, उसे कोशिका द्रव्य कहते हैं ! जिसमें अनेक अकार्बनिक पदार्थ जैसे-खनिज लवण एवं जल  तथा कार्बनिक पदार्थ जैसे-कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन व वसा होते हैं ! कोशिका द्रव्य बहुत गाड़ा एवं चिपचिपा पदार्थ होता है !

राइबोसोम किसे कहते हैं? (Ribosome kise kahate hain)

राइबोसोम की खोज पेलेड नामक वैज्ञानिक ने 1955 ई. में की थी ! इनको केवल इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी से ही देखा जा सकता है इनकी रचनाएं प्रोटीन और R.N.A. की बनी होती है  ! राइबोसोम प्रोटीन संश्लेषण में भाग लेता है !

लाइसोसोम किसे कहते हैं? (Lysosome kise kahate hain)

लाइसोसोम की खोज क्रिश्चियन डी – डवे ने 1958 में की थी ! यह बहुत ही सूक्ष्म कोशिकांग है जो छोटी-छोटी कोशिकाओं के रूप में पाए जाते हैं ! इसके चारों तरफ एक पतली झिल्ली होती है इनका आकार बहुत छोटा होता है इसमें ऐसे एंजाइम होते हैं जिनमें जीव द्रव्य को नष्ट कर देने की क्षमता होती है ! अतः इसे आत्महत्या की थैली कहा जाता है ! यह कोशिका में प्रवेश करने वाले बाय पदार्थों का पाचन करता है ! यह जीवाणु और विषाणु से भी रक्षा करता है

माइटोकॉन्ड्रिया किसे कहते हैं? (Mitochondria in hindi)

कोशिका झिल्ली किसे कहते है, What is Cell Membrane in hindi
(Mitochondria) माइटोकॉन्ड्रिया

माइटोकॉन्ड्रिया की खोज अल्टमैन नामक वैज्ञानिक ने 1890 ई. में की थी ! यह कोशिका द्रव्य में पाई जाने वाली बहुत महत्वपूर्ण रचना है जो कोशिका द्रव्य में बिखरी रहती है ! इसका आकार और आकृति परिवर्तनशील होती है यह कोशिका द्रव्य में कणों, सूत्रों छड़ो के रूप में बिखरा रहता है माइटोकॉन्ड्रिया को ऊर्जा उत्पन्न करने के कारण कोशिका का ऊर्जा ग्रह भी कहा जाता है इसे कोशिका का ऊर्जा ग्रह इसलिए कहते हैं क्योंकि इसमें 36 ATP अणु जो कि एक ग्लूकोज अणु के टूटने से बनते हैं उनमें 34 ATP अणु माइटोकॉन्ड्रिया में ही बनते हैं !

लवक किसे कहते हैं? (Lavak kise kahate hain)

लवक केवल पादप कोशिका में पाए जाते हैं ! यह कोशिका द्रव्य में चारों ओर बिखरे रहते हैं यह आकार में मुख्यतः अण्डाकार एवं गोलाकार  होते हैं !

लवक के प्रकार, (Lavak ke prakar)

यह 3 प्रकार के होते है!

1. अवर्णीलवक यह पौधों के उन भागों की कोशिकाओं में पाया जाता है जो सूर्य के प्रकाश से वंचित रहते हैं जैसे-जड़ एवं भूमिगत तनो में ! यह स्टार्च कणिकाओं एवं तेल बिंदु को बनाने एवं संग्रहित करने हेतु उत्तरदाई होता है !

2. वर्णी लवक – यह रंगीन लवक है जो प्राय लाल,पीले और नारंगी रंग के होते हैं ! यह पौधों के रंगीन भागो जैसे फूल और पत्ती में पाए जाते हैं

3. हरित लवक – पौधों के लिए हरित लवक बहुत ही महत्वपूर्ण संरचना है क्योकि इसमें मौजूद वर्णकों की सहायता से प्रकाश संश्लेषण की क्रिया संपन्न होती है इस कारण हरित लवक को कोशिका का रसोईघर भी कहा जाता है हरित लवक में पर्ण हरित के अलावा कैरोटीन एवं जेंथोफिल नामक वर्णक भी पाया जाता है पत्तियों का रंग पीला होने के कारण उनमें कैरोटीन का निर्माण होता है इसमें मैग्नीशियम धातु उपस्थित होती है !

केंद्रक किसे कहते हैं? (Kendrak kise kahate hain)

केंद्रक की खोज रॉबर्ट ब्राउन ने 1832 में की थी ! कोशिका द्रव्य के बीच में एक बड़ी, गोल संरचना पाई जाती है ! जिसे केंद्रक कहते हैं ! इसके चारों ओर दोहरे परत की एक झिल्ली होती है जिसे केंद्रक कला या केंद्रक झिल्ली भी कहते हैं ! प्रत्येक जीवित कोशिका में एक केंद्रक पाया जाता है ! लेकिन कुछ कोशिकाओं में एक से अधिक केंद्रक पाए जाते हैं केंद्रक के अंदर गाढ़ा एवं अर्द्ध तरल द्रव्य भरा रहता है ! जिसे केंद्रक द्रव्य कहते हैं !


यह भी पढ़ेंकोशिका क्या है (What Is Cell In Hindi)

यह भी पढ़े – जीव विज्ञान क्या है? (What is biology in hindi) 

यह भी पढ़े – The best coupon site for online shopping


दोस्तों, आज हमने कोशिका झिल्ली किसे कहते है, (Koshika Jhilli Kise Kahate Hain), कोशिका भित्ति  क्या है, कोशिका द्रव्य  किसे कहते हैं, राइबोसोम क्या है, लाइसोसोम  क्या है, माइटोकॉन्ड्रिया किसे कहते हैं, लवक  किसे कहते हैं,केंद्रक  किसे कहते हैं, इन सबके बारे में बताया, और उम्मीद है आपको यह आर्टिकल बहुत अच्छा लगा होगा, और कुछ न कुछ सिखने को जरूर मिला होगा, तो दोस्तों कमेंट करके कमेंट करके अपनी राय जरूर बताये की आपको यह आर्टिकल कैसा लगा ! हमें आपके कमेनेट का इंतजार रहेगा ! धन्यवाद !

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here