पादप हार्मोन क्या है? (Plant Hormones in Hindi)
पादप हार्मोन क्या है? (Plant Hormones in Hindi)

हेलो दोस्तों, हमारे ब्लॉक में आपका स्वागत है, आज हम जानेंगे की पादप हार्मोन क्या है? (Plant Hormones in Hindi) और पादप हार्मोन कितने प्रकार के होते हैं, और पादप हार्मोन के कार्य भी जानेंगे। तो चलिए शुरू करते है!

पादप हार्मोन (Plant Hormones in Hindi)

 

पादप हार्मोन क्या है? (Plant Hormones in Hindi)
पादप हार्मोन क्या है? (Plant Hormones in Hindi)

 

पादप हार्मोन क्या है? (Plant Hormones in Hindi)

पौधों की जैविक क्रियाओं के बीच समन्वय स्थापित करने वाले रासायनिक पदार्थ को पादप हार्मोन कहते हैं यह पौधों की विभिन्न अंगों में बहुत लघु मात्रा में पहुंचकर वृद्धि एवं अनेक उपापचय क्रियाओं को नियंत्रित एवं प्रभावित करते हैं इनके संश्लेषण का स्थान इनके क्रिया क्षेत्र से दूर होता है एवं यह विसरण द्वारा क्रिया छेत्र तक पहुंचते हैं बहुत से कार्बनिक योगिक जो पौधों से उत्पन्न नहीं होते परंतु पादप हार्मोन की तरह ही कार्य करते हैं उन्हें भी वृद्धि नियंत्रक पदार्थ कहा जाता है!

पादप हार्मोन को निम्नलिखित वर्गों में विभाजित किया गया है

1. ओक्जिन हार्मोन
2. जिबरेलिन्स हार्मोन
3. साइटोकाइनिन हार्मोन
4. एब्सिसिक एसिड हार्मोन
5. एथिलीन हार्मोन
6. फ़्लोरिजिन्स हार्मोन

1. ओक्जिन हार्मोन (Auxin Hormone)

यह कार्बनिक यौगिकों का समूह है जो पौधों में कोशिका विभाजन तथा कोशिका दीर्घन में भाग लेता है तने में जिस और ओक्जिन की अधिकता होती है उस और वृद्धि अधिक होती है जड़ में इसकी अधिकता वृद्धि को कम करती है

ओक्जिन के कार्य (Auxin Hormone ke Karya)

1. ऑक्सीन कोशिका दीर्घन द्वारा स्तंभ या तने की वृद्धि में सहायक होते हैं

2. यह जड़ की वृद्धि को नियंत्रित करते हैं

3. यह बीज रहित फल के उत्पादन में सहायक होते हैं

4. पतियों के झड़ने तथा फलों के गिरने पर ओक्जिन का नियंत्रण होता है

5. गेहूं एवं मक्का के खेतों में विभिन्न खरपतवार नाशक का कार्य करते हैं

2. जिबरेलिन्स हार्मोन (Gibberellin Hormone)

जिबरेलिन्स – यह एक जटिल कार्बनिक योगिक है जिसका मुख्य उदाहरण जिब्रेलिक एसिड है

जिबरेलिन्स के कार्य (Gibberellin Hormone ke Karya)

1. जिबरेलिन्स कोशिका विभाजन तथा कोशिका दीर्घन द्वारा तने को लंबा बनाते हैं जिसके कारण पौधे वृहत आकार के हो जाते हैं

2. जिबरेलिन्स हार्मोन का प्रयोग करके बीज रहित फलों का उत्पादन किया जाता है

3. जिबरेलिन हार्मोन बीजों के अंकुरण में भाग लेते हैं बीजों की सुषुप्त अवस्था को भंग करके उन्हें अंकुरित होने के लिए प्रेरित करते हैं

3. साइटोकिनिन हार्मोन (Cytokinin Hormone)

साइटोकाइनिन – यह छारीय प्रकृति का हार्मोन है, काइनिटिन एक संश्लेषित साइटोकिनिन है, साइटोकाइनिन का संश्लेषण जड़ों के अग्र सिरों पर होता है जहां कोशिका विभाजन होता है

साइटोकाइनिन के कार्य (Cytokinin Hormone ke Karya)

1. साइटोकाइनिन कोशिका विभाजन के लिए आवश्यक हार्मोन है

2. यह उत्तको एवं कोशिकाओं का विभेदन का कार्य करती है

3. साइटोकाइनिन पार्श्व कलिकाओ की वृद्धि को प्रारंभ करते हैं

4.साइटोकिनिन बीजों के अंकुरण को प्रेरित करते हैं

4. एब्सिसिक अम्ल (Abscisic Acid)

यह एक वृद्धि रोधी हार्मोन है, अर्थात यह पौधों की वृद्धि को रोकता है

एब्सिसिक अम्ल के कार्य (Abscisic Acid Ke Karya)

1. एब्सिसिक अम्ल पोधो की वृद्धि को रोकता है

2. यह वाष्पोत्सर्जन की क्रिया का नियंत्रण रन्ध्रों को बंद करके करता है

3. यह बीजों तथा कलिकाओ को सुसुप्त अवस्था में लाता है

4. यह पत्तियों के झड़ने की क्रिया को नियंत्रित करता है

5. एब्सिसिक अम्ल पौधों से फूलों एवं फलों के पृथक्करण की क्रिया को भी नियंत्रित करता है

5. एथिलीन हार्मोन (Ethylene Hormone)

एथिलीन गैस के रूप में पौधों में पाया जाने वाला हार्मोन है इसके द्वारा पौधों की अनुप्रस्थ लंबाई में वृद्धि होती है परंतु यह पौधों की अनुदैर्ध्य लंबाई में वृद्धि को रोकता है इस हार्मोन का निर्माण पौधे के प्रत्येक भाग में होता है

एथिलीन के कार्य (Ethylene Hormone ke Karya)

1. एथिलीन के द्वारा पौधों की चौड़ाई में वृद्धि होती है

2. यह पौधों की पत्तियों एवं फलों के झड़ने की क्रिया को नियंत्रित करता है

3. पौधे के विभिन्न भागों की सुषुप्त अवस्था को समाप्त कर इसे अंकुरण के लिए प्रेरित करता है

4. एथिलीन हार्मोन फलों के पकने में मुख्य भूमिका निभाता है

6. फ़्लोरिजिन्स हार्मोन (Florigens Hormone)

इसका संश्लेषण पत्तियों में होता है परंतु यह फूलों के खिलने में मदद करता है इसलिए फ़्लोरिजिन्स को फूल खिलाने वाला हार्मोन भी कहते हैं

फ़्लोरिजिन्स के कार्य (Florigens Hormone ke Karya)

1. इस हार्मोन के द्वारा फूलों का खिलना नियंत्रित होता है!

Read Moreवाष्पोत्सर्जन क्या है? Transpiration In Hindi

Read More –  Business Ideas

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here