हेलो दोस्तों, हमारे इस Blog में आपका स्वागत है, हमारे इस ब्लॉग में आज हम आपको प्रोटिस्टा जगत क्या है? । Protista Kingdom in Hindi के बारे में बताएंगे और इसके साथ-साथ प्रोटीस्टा जीवो के प्रकार के बारे में भी बताएंगे। तो चलिए दोस्तों सुरु करते है।

प्रोटिस्टा जगत । Protista Kingdom in Hindi

प्रोटिस्टा जगत क्या है? (सरल भाषा में समझिये) । Protista Kingdom in Hindi
प्रोटिस्टा जगत । Protista Kingdom in Hindi

प्रोटिस्टा जगत क्या है? । Protista Kingdom in Hindi

प्रोटिस्टा जगत क्या है? (सरल भाषा में समझिये) । Protista Kingdom in Hindi
प्रोटिस्टा जगत । Protista Kingdom in Hindi

एक कोशिकीय यूकेरियोटिक जीव को प्रोटिस्टा जगत में रखा जाता है। प्रोटिस्टा जगत के जीवो की एक विशेषता होती है, कि वह सारे कार्य जो कि जीवन यापन के लिए आवश्यक होते हैं। एक कोशिकीय अवस्था में होते हुए भी निर्बाध संपन्न करते हैं यानी कार्यात्मक दृष्टि से सभी प्रोटिस्ट बहुकोशिकीय जीवो के शरीर के समान ही होते हैं। इस जगत को प्रोकैरियोटिक जीवो वाले जगत मोनेरा एवं यूकैरियोटिक बहुकोशिकीय जीवो वाले जगतो के बीच में रखा जाता है। इस जगत के जीव प्राय कशाभिका, सिलिया या कूटपाद द्वारा प्रचलन करते हैं, चूँकि प्रोटिस्टा जगत के जीव का शरीर एक कोशिका का बना होता है तथा जीवन की सारी जैविक क्रियाओ को उसी प्रकार सम्पादित करता है। जिस तरह बहुकोशकीय जिव करते है इसलिए इन्हे कुछ वैज्ञानिक अकोशिकीय जीव भी कहते है।

प्रोटीस्टा जीवो के प्रकार । Protista Type in Hindi

प्रोटिस्टा जगत के जीवो को तीन श्रेणियों के अंतर्गत रखा जा सकता है।

1. अवपक कवक

इस प्रकार के प्रोटिस्ट प्रकाश संश्लेषण वर्णक तथा कोशिका भित्ति हीन जीव द्रव्य वाले तथा अनियमित आकार के जीव होते हैं। जिसमें कई केंद्रक पाए जाते हैं। शैशव अवस्था में कोशिका के चारों और भीति का अभाव होता है, लेकिन वयस्क अवस्था में लसलसे पदार्थ का एक स्तर कोशिका के चारों ओर बन जाता है। इसी कारण इन्हें अवपक कवक कहते हैं। उदाहरण – फाइसेरम आदि।

2. स्वपोषी प्रोटिस्ट

ऐसे प्रोटिस्ट प्रकाश संश्लेषण की क्षमता युक्त होते हैं। अथवा इनमें पर्णहरिम तथा दूसरे प्रकाश संश्लेषण वर्णक पाए जाते हैं। स्वपोषी यानी प्रकाश संश्लेषण प्रोटेस्ट के अंतर्गत डाइनोफ्लेजेलेट्स, डाइटम तथा यूग्नीला के समान जीव आते हैं।

3. प्रोटोजोअन प्रोटिस्ट

इस प्रकार के प्रोटिस्टा जगत के सदस्य अप्रकाश संश्लेषी होते हैं अर्थात इनमें प्रकाश संश्लेषी वर्णक का अभाव होता है। यह एक कोशिकीय परपोषी जन्तुसम जीव होते हैं। जन्तुसम पोषण करते हैं यानी यह अपने भोजन को निकलते हैं। इनके एककोशकीय शरीर के चारों तरफ आवरण पाया जाता है। जिसे पैलिकल कहते हैं। उदाहरण – अमीबा, पेरमिसियम।

उदाहरण – अमीबा पैरामीशियम

इन्हें भी पढ़ेंश्वसन तंत्र किसे कहते हैं? । Respiratory System In Hindi

दोस्तों आज हमने आपको प्रोटिस्टा जगत क्या है? । Protista Kingdom in Hindi के बारे में और इसके साथ-साथ प्रोटीस्टा जीवो के प्रकार । Protista Type in Hindi के बारे मे बताया, आशा करता हूँ आपको यह आर्टिकल बहुत पसंद आया होगा और आपको इससे बहुत कुछ सिखने को भी मिला होगा। तो दोस्तों मुझे अपनी राय कमेंट करके बताया ताकि मुझे और अच्छे अच्छे आर्टिकल लिखने का मौका मिले। मुझे आपके कमेंट का इंतजार रहेगा। धन्यवाद्।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here