रेडियोधर्मी प्रदूषण (Radioactive Pollution In Hindi)
रेडियोधर्मी प्रदूषण (Radioactive Pollution In Hindi)

हेलो दोस्तों, हमारे ब्लॉक में आपका स्वागत है, आज हम जानेंगे की रेडियोधर्मी प्रदूषण क्या है? (Radioactive Pollution In Hindi) और रेडियोधर्मी प्रदूषण के दुष्प्रभाव तथा रेडियोधर्मी प्रदूषण से संबंधित कुछ विश्वविख्यात दुर्घटनाएं भी जानेंगे और ओजोन परत एवं उसका क्षय क्या होता है यह भी जानेंगे।

 

रेडियोधर्मी प्रदूषण (Radioactive Pollution In Hindi)

 

"<yoastmark

रेडियोधर्मी प्रदूषण क्या है? (Radioactive Pollution In Hindi)

प्रकृति में कुछ ऐसे पदार्थ पाए जाते हैं जो स्वत: ही विघटित होकर एक प्रकार की हानिकारक किरणे उत्सर्जित करते हैं जैसे थोरियम आदि ऐसे पदार्थ रेडियोधर्मी पदार्थ कहलाते हैं इन पदार्थों से निकलने वाली किरणें वायुमंडल को प्रदूषित करती हैं इन किरणों द्वारा होने वाले प्रदूषण को रेडियोधर्मी प्रदूषण कहते हैं रेडियोधर्मी पदार्थ पर्यावरण की विभिन्न परतो में यहां तक कि वाह्य परतों में भी प्रवेश कर जाते हैं यह पदार्थ ठंडे तथा संघनित होकर बूंदों का रूप ले लेते हैं यह छोटी-छोटी बूंदे धूल कणों की भांति ठोस होकर वायु के साथ संपूर्ण संसार के पर्यावरण में फैल जाते हैं इसे रेडियोधर्मी फॉल आउट कहते हैं इसके अतिरिक्त अन्य पदार्थ बनते हैं रेडियोधर्मी फॉल आउट के कारण ही जलवायु तथा मृदा प्रदूषित हो जाती है।

 

रेडियोधर्मी प्रदूषण के दुष्प्रभाव (Adverse Effects of Radioactive Pollution In Hindi)

रेडियोधर्मी प्रदूषण के आनुवंशिक एवं विभिन्न प्रकार के भयानक रोग उत्पन्न हो जाते हैं नाभिकीय विस्फोट में अल्फा बीटा गामा कण या किरणें भी निकलती हैं जो गुणसूत्रों पर उपस्थित जींस में अचानक परिवर्तन या उत्परिवर्तन कर देते हैं इस प्रकार के परिवर्तन आनुवंशिक होते हैं परमाणु विस्फोट के समय अत्यधिक उष्मा उत्पन्न होने पर कई किलोमीटर दूर तक उपस्थित लकड़ी जल जाती है तथा धातु में भी पिघल जाती हैं रेडियोधर्मी तत्वों से युक्त धूल पत्तियों के माध्यम से पौधों के अंदर प्रवेश कर जाते हैं पौधों में या जन्तु या मनुष्य के भोजन में पहुंचकर अनेक रोग उत्पन्न करती हैं रेडियोधर्मी प्रदूषण से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है तथा तंत्रिका तंत्र में विकार उत्पन्न हो सकते हैं इससे विभिन्न प्रकार के रोग जैसे कैंसर ल्यूकेमिया आदि रोग उत्पन्न हो जाते हैं रेडियोधर्मी पदार्थों के इस प्रकार फैलने पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए ।

Radioactive Pollution से संबंधित कुछ विश्वविख्यात दुर्घटनाएं (Some World Famous Accidents Related to Radioactive Pollution In Hindi)

द्वितीय महायुद्ध के समय 6 अगस्त 1945 एवं 9 अगस्त 1945 क्रमश: हिरोशिमा तथा नागासाकी पर गिराए गए परमाणु बम तथा उनके विस्फोट से लाखों मनुष्य की अकाल मृत्यु तथा इनमें कहीं अधिक लोगों का अपंग होना विश्व भर ने देखा इसके अतिरिक्त अनेक रोग उनकी संतानों में भी उत्पन्न हुए 26 अप्रैल 1986 को पूर्व सोवियत रूप से चेरनोबिल स्थित परमाणु शक्ति केंद्र में रिसाव होने से घातक रेडियोधर्मी कण पर्यावरण में प्रविष्ट हो गए जो एक भयंकर खतरे के रूप में सामने आया और इससे अनेक लोगों की हानि उठानी पड़ी न्यूक्लिक विस्फोटों के कारण रक्षात्मक ओजोन परत के नष्ट होने की संभावना है जिसके फलस्वरूप भयंकर न्यूक्लिक शीतलकाल होने की आशंका हो सकती है ।

 

ओजोन परत एवं उसका क्षय (Ozone Layer and its decay in Hindi)

ओजोन का सूत्र और 3 होता है यह ऑक्सीजन के तीनों परमाणुओं से मिलकर बनी होती है ओजोन एक विषैली गैस है पृथ्वी से 50 किमी की ऊंचाई पर समताप मंडल में एक मोटी परत के रूप में स्थित होती है इस मोटी परत को ओजोन कवच कहते हैं ओजोन परत सूर्य की हानिकारक पराबैंगनी किरणों को अवशोषित करके पृथ्वी पर आने से रोकती है क्लोरो फ्लोरोकार्बन जिसका प्रयोग रेफ्रिजरेशन मैं किया जाता है तथा नाइट्रोजन मोनोऑक्साइड नामक प्रदूषक गैस ओजोन परत नष्ट होने के प्रमुख कारण है क्लोरीन तथा फ्लोरीन युक्त कार्बनिक योगिक है जो बहुत ही स्थाई होते हैं तथा किसी भी जैव प्रक्रिया में विघटित नहीं होते हैं वायुमंडल में क्लोरो फ्लोरोकार्बन काफी समय तक स्थित अवस्था में बने रहते हैं ओजोन परत के समीप पहुंचने पर ये ओजोन अणुओं के साथ प्रतिक्रिया करते हैं इसके परिणाम स्वरूप ओजोन परत का क्षय होता है जॉन ओजोन भारत के और भी अधिक भीड़ होने के कारण पृथ्वी पर जीवन के ऊपर पड़ने वाले कुछ प्रभाव निम्न प्रकार से हैं त्वचा के कैंसर एवं तथा में अन्य विकार इन बकरों के कारण भूमंडल पर वर्षा का चक्र बदल जाता है जीनी संरचना में परिवर्तन से जीनी विकार उत्पन्न हो जाते हैं!

Read Moreध्वनि प्रदूषण क्या है? (Noise pollution in Hindi)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here